Text selection Lock by Hindi Blog Tips

मंगलवार, 13 जून 2017

चाँदनी की इनायत हुई....



मुझको जब से मुहब्बत हुई...
इस जहां से अदावत हुई...!

इश्क़ को जब खुदा कर लिया...
ज़िन्दगी इक इबादत हुई...!

आपने जब दुआ दी मुझे...
ठीक मेरी तबीयत हुई...!

चाँद आगोश में आ गया...
आज पूरी ये मन्नत हुई...!

मुस्कुरा कर हमें देखना...
या खुदा, ये हिमाकत हुई....!

साँस थम सी गयी थी मेरी...
आप आये तो हरकत हुई...!

रात 'पूनम' अकेली नहीं...
चाँदनी की इनायत हुई...!


***पूनम***



8 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! पूनम जी बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन.. अच्छा लिखते हैं आप. ये कलम चलती रहे

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हितेश जी...बहुत बहुत शुक्रिया

      हटाएं
  3. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' १५ जनवरी २०१८ को लिंक की गई है। आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ध्रुव जी....आभार आपका 'लोकतंत्र'में सम्मिलित करने के लिए

      हटाएं